breaking newsBusiness

निवेश का मौका : 15 अक्टूबर से RBI शुरू करेगा गोल्ड बॉन्ड स्कीम, पढ़ें योजना की जरूरी बातें

भारत सरकार की महत्वपूर्ण योजना ‘गोल्ड बॉन्ड स्कीम’ 15 अक्टूबर से शुरू होगी। एक प्रेस रिलीज के जरिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने जानकारी दी कि यह योजना फरवरी तक चलेगी। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, ये सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड अक्टूबर 2018 से फरवरी 2019 तक हर महीने जारी किए जाएंगे। ये बॉन्ड विशेष कैलेंडर के आधार पर जारी किए जाएंगे।

इन बॉन्ड्स को बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, संबंधित पोस्ट ऑफिस, स्टॉक एक्चेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और बीएसई के माध्यम से बेचा जा सकेगा। योजना का पहला अंश 15-19 अक्टूबर को सब्सक्रिप्शन के लिए खोला जाएगा। 15 से 19 अक्टूबर को लोग गोल्ड बॉन्ड लेंगे उन्हें 23 अक्टूबर को बॉन्ड जारी किए जाएंगे।

योजना का अगला अंश 5 से 9 नवंबर को खोला जाएगा जिसके बॉन्ड 13 नवंरब को जारी किए जाएंगे। इसके अगला अंश 24-28 दिसंबर को खोला जाएगा जिसके लिए 1 जनवरी को बॉन्ड जारी किए जाएंगे। इसके बाद अगला अंश 14-18 जनवरी के को खोला जाएगा जिसके लिए 22 जनवरी को बॉन्ड जारी किए जाएंगे। इसके बाद स्कीम का आखिरी अंश 4-8 फरवरी के बीच खोला जाएगा जिसके लिए 12 फरवरी को बॉन्ड जमा किए जाएंगे।

2015 में शुरू हुई थी योजना-
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम नवंबर 2015 को शुरू हुई थी। इस योजना का उद्देश्य सोने की भौतिक मांग में कमी लाना था, जो लोग घरेलू बचत के लिए सोना खरीदते हैं उन्हें फाइनेंशियल सेविंग में लाना था।

इस स्कीम के तहत सबसे छोटा बॉन्ड एक ग्राम सोने के बराबर रखा गया था। इसके बाद कोई भी व्यक्ति एक फिसिकल वर्ष में अधिकतम 500 ग्राम सोने का बॉन्ड खरीद सकता है। एक व्यक्ति के लिए अधिकतम बॉन्ड की सीमा 4 किलोग्राम और किसी संगठन के लिए 20 किलोग्राम सोने के बराबर बॉन्ड खरीदने की है।

ऐसे होगी कीमत का भुगतान-
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के अनुसार, बॉन्ड खरीदने के लिए कैश का भुगतान अधिकतम 20 हजार रुपए, डिमांड ड्राफ्ट, चेक या इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग से होगा। गोल्ड बॉन्ड पर मिलने वाला ब्याज टैक्स के दायरे में आएगा।

Related Articles

Back to top button