Bhopalmadhya pradesh

कांग्रेस के इस नेता ने कहा- कंस मामा हैं सीएम शिवराज

भोपाल। कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भाजपा सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि, पौराणिक काल में दो मामा प्रसिद्ध हुए हैं, कंस और शकुनि, और आज के युग में भी एक मामा मप्र में हैं। जिन्होंने एमपी को अपराधियों का गढ़ बना दिया है।

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि, पौराणिक काल के मामाओं की कथा सबको पता है, मध्य प्रदेश के मामा की हम सुनाते हैं, जिन्होंने ऐसे मध्य प्रदेश जिसकी पहचान पहले देश की कला, संस्कृति और संस्कार की राजधानी के रूप में हुआ करती थी। उस मध्य प्रदेश को अपराधियों का गढ़ बना दिया है।

‘2004 से 2016 तक 46308 दुष्कर्म के मामले दर्ज’
रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि, आज हालात यह हैं कि सत्ता की सरपरस्ती में निरंकुश अपराधी मध्य प्रदेश में राज कर रहे हैं। मप्र लगातार 2004 से अपराधों में अव्वल दर्जे में दर्ज किया जा रहा है। महिलाओं से दुष्कर्म में हाल यह है कि, अब तक 2004 से 2016 तक 46308 बलात्कार हुए हैं, जो देश मे सर्वाधिक हैं।

प्रति वर्ष होते हैं 4904 अपहरण’
2004 में 2875 बलात्कार की नृशंस घटनाएं हुईं, वे आज बढ़कर 4909 प्रतिवर्ष होने लगे हैं। बच्चियों, महिलाओं के अपहरण के हालात यह हैं कि जहां 2004 में 584 अपहरण होते थे, वे आज 4904 अपहरण प्रति वर्ष पर पहुंच गए हैं। अर्थात लगभग 10 गुना बढ़ गए।

‘मध्य प्रदेश में नवजात शिशु मृत्यु दर 32 प्रतिशत’
कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे 2016 की रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया कि, देश में सबसे ज्यादा 42.8 बच्चे कुपोषण का शिकार मध्य प्रदेश में हैं, अर्थात 4708000 बच्चे, मोदी सरकार की हाल ही की 2017 की रिपोर्ट बताती है कि, मध्य प्रदेश में नवजात शिशु मृत्यु दर 32 प्रतिशत है, जो कि देश में सबसे ज्यादा है।

61 हजार बच्चों के जन्म के पहले 28 दिनों में मृत्यु’
इस मान से मध्य प्रदेश में 61 हजार बच्चों की जन्म के पहले 28 दिनों में ही मृत्यु हो जाती है। इसी तरह शिशु मृत्यु दर भी देश में सबसे ज्यादा 47 है। यानी लगभग 90 हजार बच्चे अपना पहला जन्म दिन भी नहीं मना पाते हैं। मध्य प्रदेश में नवजात शिशु मृत्यु दर 32 प्रतिशत है, जो कि देश में सबसे ज्यादा है।

Related Articles

Back to top button