chattisgarh

पुलिस लाइन में भरभराकर गिर गई जर्जर पानी की टंकी, आरक्षक की मौत

रायपुर।राजधानी में प्रशासन की लापरवाही के कारण आरक्षक की जान चली गई। मामला जर्जर पानी टंकी का था। काफी लंबे समय से इसे गिराने की मांग उठ रही थी। गुरुवार को सुबह टंकी पर चढ़कर दो आरक्षकों ने जोर दिया तो वो खुद भरभराकर गिर गई। इस हादसे में मलबे में दबने से एक आरक्षक की दर्दनाक मौत हो गई। आरक्षक की डेड बॉडी को डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। घटना में एक और आरक्षक गंभीर रूप से घायल हो गया जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

खुद तोड़ने की करने लगे कोशिश

– 35 साल पुरानी इस पानी के टंकी से पहले पुलिस लाइन में पानी की सप्लाई होती थी। काफी दिनों से इसको यूज में नहीं लिया जा रहा था। जर्जर होने के चलते इसे तोड़ने की तैयारी चल रही थी। 4 दिन पहले जेसीबी आई। जेसीबी का चेन टूट जाने के चलते काम बंद हो गया। फिर ठेकेदार को तोड़ने का काम दिया गया।

– दो दिन तक मजदूरों ने टंकी को तोड़ने की कार्रवाई की। टंकी के पिलर को पतला कर दिया। पिछले दो दिन मजदूर आ नहीं रहे थे। इधर सुबह आरक्षक जय सिंह यादव और आरक्षक एनके व्यास खुद ही टंकी को तोड़ने की कोशिश करने लगे।

– टंकी पर लगी सीढ़ी पर चढ़कर एनके व्यास बगल वाली टंकी पर चले गए और जय सिंह उस टंकी से लगी दीवार पर चढ़ गए। दोनों ने जैसे ही जोर लगाया टंकी भरभराकर गिर गई। उस वक्त दोनों का बैलेंस बिगड़ गया। जय सिंह टंकी के मलबे में दब गए और उनकी मौके पर ही मौत हो गई। वहीं एनके व्यास गंभीर रूप से घायल हो गए।

– यूपी के गाजीपुर जिले के रहने वाले जयसिंह की मौत के बाद उनके परिजनों को खबर किया गया है। 18वीं बटालियन के आरक्षक जयसिंह यादव पुलिस लाइन में वाहन चालक थे।

साथी को लेकर अस्पतालों के चक्कर लगाते रहे

– इधर घायल जवान एनके व्यास को लेकर उनके साथी कई अस्पतालों के चक्कर लगाते रहे। महावीर जयंती की छुट्टी के चलते डॉक्टर नदारद थे। ऐसे में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

Related Articles

Back to top button