chattisgarh

छत्तीसगढ़ : 31जनवरी से शुरू होगा राजिम कुम्भ मेला

रायपुर। देश दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाने वाला राजिम कुंभ का की शुरुआत 31 जनवरी को माघपूर्णिमा के दिन होगा और 13 फरवरी को महाशिवरात्रि के दिन इसका समापन किया जाएगा। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से सटे राजिम में आरोजित होने वाले इस विराट संत समागम में देश-विदेश से आने वाले साधु आकर्षण का केंद्र होते हैं।

राजिम कुंभ के आयोजन का यह 13वां साल है। इस साल सरकार ने इसे राजिम कुंभ कल्प का नाम दिया है। सरकार की ओर से कुंभ के भव्य आयोजन के लिए पुख्ता तैयारी की जा रही है। सरकार के धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने शुक्रवार को अफसरों की बैठक लेकर कुंभ की तैयारियों से जुड़े जरूरी दिशा निर्देश दिए।

शंकराचार्य करेंगे शिरकत

बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि, इस बार कुंभ में जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती, सतपाल जी महाराज, असंग साहेब जैसे राष्ट्रीय संत पहुचेंगे। उन्होंने कहा कि राजीव लोचन मंदिर से कुलेश्वर महादेव मंदिर से लोमश ऋषि आश्रम तक सस्पेंशन ब्रिज (लक्ष्मण झुला) का निर्माण शुरू हो गया है जो सम्भवतः देश का सबसे बड़ा सस्पेंसन झूला होगा। उन्होंने कहा कि, मेला क्षेत्र में सड़क निर्माण के लिए भी रकम स्वीकृत की गई है जिसका काम जल्द शुरू कर दिया जाएगा।

माता कौशल्या और महानदी मंदिर का होगा निर्माण

अग्रवाल ने बताया कि सीएम रमन सिंह ने मता कौशल्या मंदिर और महानदी मंदिर निर्माण के लिए राशि उपलब्ध कराने की सहमति दे दी है। अग्रवाल ने तैयारियों की समीक्षा करते हुए लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्माण के दौरान नदी पर पहले से पड़ी मुरम का उपयोग करने और अस्थाई सड़कों का निर्माण करने और राजिम को आस-पास को गांवों से जोड़ने वाली सड़कों की मरम्मत करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने जल संसाधन विभाग के अफसरों को शाही स्नान के लिए कुंड और गंगा आरती के लिए घाट के निर्माण और 29 जनवरी तक नदी में पानी छोड़ने के निर्देश दिए।

Related Articles

Back to top button