INDIA

राम दरबार से जुड़े बर्तनों से लेकर इत्र की शीशियों तक.., पीएम मोदी ने G7 के नेताओं को भेंट किए भारतीय उपहार

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी भारत की समृद्ध संस्कृति और विरासत से पूरे विश्व को परिचित कराने के लिए अवसर खोजते ही रहते हैं। जी-7 सम्मेलन में शामिल होने के लिए जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी ने दुनिया के राष्ट्रध्यक्षों को सांस्कृतिक अहमियत रखने वाली अमूल्य वस्तुएं उपहार में दी। पीएम मोदी ने जो उपहार भेंट किए, उनमें डोकरा आर्ट की कलाकृति, मीनाकरी, इत्र बॉक्स, संगमरमर के टेबल टॉप, संगमरमर का मटका, मूंज से बनी टोकरी के साथ ही मलमल से बनी चटाई भी शामिल हैं।

पीएम मोदी ने जो उपहार दिए हैं, उनका सांस्कृतिक इतिहास और परंपरा रही है। ये तोहफे भारत के विभिन्न हिस्सों की पहचान और कला की विशेषता को सामने लाते हैं। मोदी ने कनाडा के पीएम मोदी को हाथ से बुनी गई सिल्क की चटाई उपहार में दी। यह चटाई अपनी खूबसूरती और कला के लिए काफी मशहूर है। खासकर कश्मीरी सिल्क की बुनावट बेहद अनूठी मानी जाती है। कश्मीरी सिल्क कार्पेट अधिकतर श्रीनगर इलाके में बनाई जाती है। पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को वाराणसी से मंगाई गई गुलाबी मीनाकारी कलाकृति उपहार में दी। वहीं, जर्मन चांसलर ओलाफ शॉल्ज को उन्होंने मुरादाबाद से मंगाए गए कफलिंक और ब्रोच भेंट किए।

सूत्रों के अनुसार, पीएम मोदी ने जापानी पीएम फुमियो किशिदा को यूपी के निजामाबाद से मंगाए गए काली मिट्टी के बर्तन उपहार में दिए, जबकि ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन को उपहार में प्लेटिनम का ‘टी-सेट’ दिया। सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों को उपहार में जरदोजी के डिब्बे में रखी इत्र की शीशियां भेंट की। वहीं, इटली के पीएम मारियो द्रागी को उन्होंने आगरा के संगमरमर का ‘टेबल टॉप’ उपहार में दिया।

सेनेगल में हाथ से बुनाई की पुरानी परंपरा के दृष्टिगत मोदी ने देश के राष्ट्रपति के लिए तोहफे में मूंज की टोकरियां और कपास की दरी चुनी। पीएम मोदी ने रामायण के साथ इंडोनेशियाई संस्कृति के स्थायी जुड़ाव क मद्देनज़र इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोदो को राम दरबार से जुड़े बर्तन उपहार में दिए। इन बर्तनों को वाराणसी से मंगाया गया था, जो पीएम मोदी का निर्वाचन क्षेत्र है। मोदी ने कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो को कश्मीर का मशहूर उत्पाद रेशमी कालीन उपहार में दी।

Related Articles

Back to top button